How to Grow Imli ka Ped in India | Growing Tamarind Tree

|
Last Updated: 19.10.2023

Imli ka Ped इसकी पंखदार पत्तियों के साथ एक सौंदर्य है जो खट्टे और मीठे फल प्रदान करता है। इमली का पेड़ कैसे उगाएं, यह जानने के लिए इस लेख को देखें।

Imli ka Ped

Imli ka Ped, जिसे अंग्रेजी में Tamarind tree भी कहते हैं, एक बड़ा और लंबा पेड़ होता है जो विभिन्न उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में पाया जाता है। यह पेड़ भारतीय रसोई और वनस्पति उद्योग में बहुत महत्वपूर्ण है। यह पेड़ अपने फल के कारण बहुत लोकप्रिय होता है और इसके फल के रस का उपयोग नमकीन और मीठे व्यंजनों में किया जाता है। इन खूबसूरत और उपयोगी पेड़ों के बारे में और जानने के लिए आगे पढ़ें।

Check Out How to Grow Nashpati ka Ped here


Imli ka Ped Information

Imli ka Ped एक स्थायी हरगोली वृक्ष होता है जो 25 से 30 मीटर तक ऊंचा हो सकता है। इसकी डालें और पत्तियां लंबी होती हैं। इस पेड़ का फल मीठा होता है और खट्टे तथा खट्टीमीठी रसदार खाने की विशेषता होती है। इसके फल के बीजों का भी उपयोग किया जाता है।

इसके अलावा, इमली के फल को चटनी, सॉस, मुरब्बा और अन्य व्यंजनों के रूप में भी उपयोग किया जाता है। इसके अलावा, इस पेड़ की छाल, डालें और पत्तियों का भी उपयोग औषधीय गुणों के कारण किया जाता है।

Imli ka Ped produces small, yellow-orange flowers and long, dark brown fruit pods. Tamarind has a long history of medicinal use and is used in many traditional medicine systems to treat a range of ailments.

Botanical Name: Tamarindus indica

Check Out How to Grow Mahogany ka Ped here


Requirements to Grow Imli ka Ped

Imli ka Ped 2

Sunlight

Imli ka Ped को दिन में कम से कम छह घंटे पूर्ण सूर्य के प्रकाश की आवश्यकता होती है। यह कुछ छाया को सहन कर सकता है, लेकिन यह छायांकित क्षेत्रों में उतना फल नहीं देगा।

Soil

यह पेड़ 6.0 से 7.0 की पीएच सीमा वाली अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी में सबसे अच्छा बढ़ता है। Imli ka Ped रेतीली, दोमट और चिकनी मिट्टी सहित विभिन्न प्रकार की मिट्टी में उग सकता है।

The soil should have good water and air holding capacity, and should be able to retain moisture. Sandy loam soils are ideal for Imli ka Ped, but it can also grow in clay and saline soils. The soil should be able to provide sufficient nutrition for the tamarind tree to grow and produce fruit.

Water

इन पेड़ों को मध्यम पानी की जरूरत होती है। यह कुछ सूखे को सहन कर सकता है, लेकिन मिट्टी को लगातार नम रखना सबसे अच्छा है।

Water Imli ka Ped deeply and regularly, preferably once a week, till it grows to about 4-6 feet in height. The soil should be kept moist, but not soggy, during the active growing season.

During winter months, water it less frequently, allowing the soil to dry out completely between waterings

Temperature

इमली का पेड़ 25-35 डिग्री सेल्सियस (77-95 डिग्री फारेनहाइट) की तापमान सीमा वाले गर्म उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों के लिए सबसे उपयुक्त है।

Check Out How to Grow Lichi ka Ped here


Imli ka Ped Care

Fertilizer

बढ़ते मौसम के दौरान इमली के पेड़ को संतुलित उर्वरक खाद दें। आप जैविक खाद जैसे खाद और खाद का भी उपयोग कर सकते हैं।

Imli ka Ped require a balanced fertilizer that is high in phosphorus and nitrogen. A 10-10-10 or 8-8-8 fertilizer is recommended. Apply 2 pounds of fertilizer per inch of trunk diameter, spread evenly around the tree in early spring. Apply a second application at the same rate in early summer.

When the plant is young, you can use a balanced feed once a month, after diluting it to half of its strength.

Pests and Diseases

इमली का पेड़ आमतौर पर कीटों और बीमारियों के लिए प्रतिरोधी होता है, लेकिन यह जड़ सड़न और फल मक्खियों से प्रभावित हो सकता है।

Common Pests:

1. Aphids
2. Whiteflies
3. Scale Insects
4. Thrips
5. Mealybugs
6. Caterpillars
7. Fruit Flies

Common Diseases:

1. Anthracnose
2. Phomopsis Canker
3. Bacterial Leaf Spot
4. Phytophthora Root Rot
5. Fusarium Wilt
6. Powdery Mildew
7. Verticillium Wilt

To keep things in check, use these measures:

  • Prune infected branches and twigs: Pruning infected branches and twigs is one of the best ways to control pests and diseases in Imli ka Ped. This will help to reduce the spread of the disease and improve the overall health of the tree.
  • Provide proper irrigation: Ensure that your Imli ka Ped is receiving adequate water. Overwatering can lead to disease and pest problems, so make sure that your tree is not getting too much or too little water.
  • Use organic pesticides: Organic pesticides such as neem oil or pyrethrin can be used to control pests and diseases.
  • Remove infected parts of the tree: If the pest or disease has spread too far and cannot be treated with pesticides, then it is advisable to remove the infected parts of the tree. This will help to prevent the spread of the disease and improve the overall health of the tree.

Check Out How to Grow Anar ka Ped In India Easily here


Harvesting Imli ka Ped

Tamarind harvesting is done by hand. It involves carefully removing the fruit from the tree while wearing protective clothing. The fruit should be handled carefully to avoid damage.

Collect them in bags or baskets for future use and store them in a cool and dry place. You can use them to make jams, chutneys, and sauces.

Leave a Comment

Send this to a friend